Pahlaj Nihlani sacked and Bollywood is celebrating

ये तो होना ही था। भारतीय संस्कृति के नाम पर फिल्मों में अनावश्यक कट, फिल्मों की रिलीज़ पर रोक लगाने वाले पहलाज निहलानी को सीबीएफसी प्रमुख के पद से हटा दिया गया है। सरकार के इस फैसले से मानो बॉलीवुड में ख़ुशी की लहर दौड़ गयी है। ऐसा इसलिए है क्यूंकि निहलानी ने पिछले 3 साल में लगभग हर बॉलीवुड निर्माता और निर्देशक की रातों की नींद और दिन का चैन छीन लिया था। फिल्मों में कट्स और विवादित टिप्पणियों देना मानो निहलानी की आदत हो गयी थी।

पहलाज निहलानी को पद से हटाए जाने की मांग काफी दिनों से जोर पकड़ रही थी। सूत्रों के हवाले से खबर आ रही थी कि सूचना व प्रसारण मंत्रालय पहलाज निहलानी के कामकाज से बिल्कुल खुश नहीं है। आख़िरकार सरकार ने ये फैसला लिया और पहलाज निहलानी की जगह मशहूर गीतकार प्रसून जोशी कोसीबीएफसी का नया प्रमुख नियुक्त किया गया है।

बॉलीवुड सेलिब्रिटीज ही नहीं, दर्शकों ने भी सरकार के इस फैसले का स्वागत किया है। इस बार का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि ट्विटर पर सरकार के इस फैसले की खूब तारीफ हो रही है।

पिछले 3 साल में अपने अड़ियल रवैये के चलते पहलाज फिल्म इंडस्ट्री के लगभग हर निर्देशक और निर्माता के निशाने पर रहे है। अपने कार्यकाल के दौरान उड़ता पंजाब, लिपस्टिक अंडर माय बुरखा, बाबुमोशाई बम्दूक्बाज़, अलीगढ और न जाने कितनी फिल्मों को निहलानी की केंची का सामना करना पड़ा। इनमे से उड़ता पंजाब और लिपस्टिक अंडर माय बुरखा जैसी फिल्मों पर तो रोक ही लगा दी गयी थी।

खुली सोच से फिल्म बनाने वाले निर्देशक जैसे अनुराग कश्यप, मधुर भंडारकर, राकेश ओमप्रकाश मेहरा, प्रकाश झा के लिए ये खबर एक जैकपोट के समान है। लगभग सभी फिल्म्मकेर्स ने सरकार के इस फैसले को सही ठहराया है और नए सीबीएफसी प्रमुख प्रसून जोशी का गर्मजोशी से स्वागत किया है।

मशहूर फिल्मकार श्याम बेनेगल ने फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि प्रसून जोशी का फिल्म बिज़नस को अच्छे से समझते है। श्याम को ख़ुशी है कि खुली सोच वाले प्रसून को ये जिम्मेवारी सौंपी गयी है।

मधुर भंडारकर, राकेश ओमप्रकाश मेहरा, अशोक पंडित और टोनी डीसूजा ने प्रसून जोशी की तारीफों के पुल बांधते हुए कहा है कि प्रसून खुली और नए भारत की सोच रखने वाले इंसान है। सभी ने प्रसून को बधाई देते हुए उनसे शानदार काम की उम्मीद जताई है।

अब ये देखना दिलचस्प होगा कि प्रसून जोशी किस तरह से अपने काम को आगे बढ़ाते हैं। उम्मीदों को घड़ा भरा हुआ है और सबका मानना है की प्रसून के राज में बॉलीवुड के अच्छे दिन जरूर आएँगे।